अक्सर सूखे हुए होंठों से ही होती हे मीठी बातें,
प्यास बुझ जाए तो अल्फ़ाज़ और इंसान दोनो बदल जाया करते हे

Related posts